Home Stories in Hindi 2 Friends Motivational Story in Hindi | २ दोस्तो की प्रेरणादायक कहानी

2 Friends Motivational Story in Hindi | २ दोस्तो की प्रेरणादायक कहानी

0
2 Friends Motivational Story in Hindi _ २ दोस्तो की प्रेरणादायक कहानी (1)

हेलो दोस्तों Hindi Canvas मैं आप सब लोगों का स्वागत है। दोस्तों, आज जो कहानी सुनाने जा रहा हूं उसका नाम है 2 Friends Motivational Story in Hindi (२ दोस्तो की प्रेरणादायक कहानी) । यह एक Motivational Stories का कहानी है….आशा करता हूं कि आपको बेहद पसंद आयेगा। तो चलिए शुरू करते है आजका कहानी 2 Friends Motivational Story in Hindi | २ दोस्तो की प्रेरणादायक कहानी

2 Friends Motivational Story in Hindi | २ दोस्तो की प्रेरणादायक कहानी

यह कहानी है 2 दोस्तों की जो एक गांव में रहते थे। उनमें से एक 6 साल का था और एक 10 साल का दोनों बहुत अच्छे दोस्त थे। दोनों हमेशा साथ रहते थे, साथ साथ खेलते, साथ साथ खाते पीते थे। तो एक दिन वह दोनों गांव से थोड़ा दूर घूमने के लिए गए। और खेलते खेलते उनमें से जो बड़ा वाला बच्चा था 10 साल वाला वह कुएं में गिर गया और जोर जोर से चिल्लाने लगा।

उसको तैरना नहीं आता था अब जो दूसरा बच्चा था छोटा सा 6 साल का उसने अपने आसपास देखा और उसको कोई नजर नहीं आया जोकि उसको मदद कर सके। और फिर उसकी नजर पड़ी एक बाल्टी में जिस पर एक रस्सी बंधी है। उसने 1 सेकंड भी बर्बाद ना करके बाल्टी को उठा कर के कुएं में फेंका। और अपने दोस्त को बोला की पकड़ ले इसको।

उसके दोस्त ने पकड़ा और फिर वह अपनी पूरी ताकत लगाकर के पागलों की तरह खींचने लगा। खींचता रहा अपनी पूरी जान लगा कर वह छोटे से बच्चे ने 6 साल के और 10 साल के बच्चे ने वह बाल्टी पकड़ रखी थी। और तब तक नहीं रुका जब तक कि उसने अपने दोस्त बचा ना ले।

अब यहां तक तो ठीक था यहां तक तो यह कहानी समझ आती है। लेकिन हुआ क्या की जैसे ही वह दो बच्चे जब दोनों एक हो गए बाहर आए और आकर के गले मिल मिले, रो रहे हैं, खुश हो रहे हैं लेकिन एक तरफ से उनको डर भी लग रहा था। डर था कि अब गांव जाएंगे तो बहुत पिटाई होगी। जब सबको बताएंगे कि कुएं में गिर गए।

लेकिन मजे की बात यह है कि ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। वह जब गांव गए जा कर के उन्होंने अपने घरवालों को बताया और गांव वालों को बताया तो किसी ने विश्वास नहीं किया पूरे गांव वालों ने। और वह अपनी जगह बिल्कुल ठीक थे क्योंकि उस बच्चे में इतनी भी ताकत नहीं थी की एक बाल्टी पानी से भरी हुई वह भी उठा सके।

तो इतने बड़े बच्चे को इतनी ऊपर कितना तो दूर की बात है। लेकिन एक आदमी था उसके गांव में जिसने विश्वास कर लिया। उन्हें सब रहीम चाचा कहते थे। गांव के सबसे समझदार बुजुर्गों में से एक। फिर सबको लगा कि यह कभी झूठ नहीं बोलते अगर यह बोल रहा है तो जरूर इसमें कोई बात होगी। और फिर सारे गांव वाले इकट्ठे होकर उनके पास गए।

और जा करके बोले चाचा हमें तो कुछ समझ नहीं आ रहा है आप ही बता दो की ऐसा कैसे हो सकता है। जब गांव वाले रहीम चाचा को यह सब बोल रहे थे तो उनको हंसी आ गई। वह बोले की अरे इसमें मैं क्या बताऊं बच्चा बता तो रहा है की वह इसने कैसे किया। बाल्टी को उठा कर के कुएं में फेंका उसके दोस्त ने फिर बाल्टी को पकड़ा उसने रस्सी को खींचा और अपने दोस्त को बचा लिया।

तो आपको पता तो है की बच्चे ने यह सब कैसे किया। फिर सारे गांव वाले चाचा के शक्ल देखने लगे और सोचने लगे।

उसके बाद उन्होंने बोले की सवाल यह नहीं है की वह छोटा सा बच्चा यह कैसे कर पाया। सवाल यह है कि वह क्यों कर पाया। उसके अंदर इतनी ताकत कहां से आई। वह बोले इसका सिर्फ एक ही जवाब है : जिस वक्त उस बच्चे ने यह किया उस वक्त पर, उस जगह पर दूर-दूर तक कोई नहीं था उस बच्चे को यह बताने वाला की तू यह नहीं कर सकता। कोई नहीं यहां तक की वह खुद भी नहीं।

इस कहानी से हमें यह सीख मिलता है कि हमें अपने काम में Focus रहना चाहिए। अगर कोई बोलता है की तेरे से यह नहीं होगा, तो यह नहीं कर सकता तो उसकी बातों पर ध्यान ना देकर हमें अपना काम में मन लगाना चाहिए और काम को सफल बनाना चाहिए।

और पढ़िए : गुलाम कि सीख एक Motivational Story in Hindi

अगर आपको यह कहानी अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिए और नीचे कमेंट में लिखिए कि आपको किस तरह के और कहानियां चाहिए।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version