Teacher Daughter-in-Law Story in Hindi | टीचर बहू की कहानी

0
Teacher Daughter-in-Law Story in Hindi | टीचर बहू की कहानी
Teacher Daughter-in-Law Story in Hindi | टीचर बहू की कहानी

हेलो दोस्तों Hindi Canvas मैं आप सब लोगों का स्वागत है। आज जो कहानी सुनाने जा रहा हूं उसका नाम है टीचर बहू की कहानी । तो चलिए शुरू करते है आजका कहानी Teacher Daughter-in-Law Story in Hindi | टीचर बहू की कहानी

Teacher Daughter-in-Law Story in Hindi | टीचर बहू की कहानी

आज की हमारी कहानी है टीचर बहू। एक बार की बात है रमा अपने बेटे की शादी के लिए सुमन नाम की लड़की देखने गई थी। सुमन के घर पहुंच कर उनको पता चला कि वह बच्चों को ट्यूशन भी पढ़ाती है । रमा के बेटे और सुमन के बीच बाद के बाद रमाने सुमन से कहा कि हम नहीं चाहते कि हमारी बहू बच्चों को पढ़ाइए।

इसीलिए शादी के बाद सुमन को को बच्चोको ट्यूशन पढ़ाना बंद करना होगा। सुमन इस बात पर सहमत हो गई। इसके कुछ दिनों के बाद सुमन और रमा के बेटे की शादी हो गई। शादी के बाद रमा ने अपनी बहू को कहा कि वह तैयार हो जाए, शाम को पड़ोस की औरतें उसको देखने के लिए आने वाली है।

सुमन तैयार हो गई, जिसके बाद पड़ोस की औरतें सुमन को देखने के लिए आ गई। वह सुमन को देखकर रमा से बोली कि तेरी बहू तो बहुत सुंदर है। एक औरत ने पूछा, क्या यह नौकरी भी करती है। रमा ने बताया कि शादी से पहले वह बच्चों को ट्यूशन पढ़ाती थी।

लेकिन उसको यह सब पसंद नहीं है, उसका बेटा अच्छा कमाता है इसीलिए उसको काम करने की जरूरत नहीं है। इस पर पड़ोस की औरत ने कहा कि मेरी बहू भी तो कंपनी में काम करती है। उसने रमा को कहा कि उसको भी अपनी बहू को काम करने देना चाहिए।

रमा ने उनकी बात को अनसुना कर दिया। कुछ दिन बाद रमा का छोटा बेटा हरीश अपने एग्जाम में फेल हो गया। इस पर रमा ने उसको बहुत डांटा। सुमन ने अपनी सास को बोला कि अब वह हरीश को पड़ाएंगी। रमा ने बोला कि हरीश को वह कितना भी पड़ाले लेकिन वह पास नहीं होगा।

क्योंकि वह पढ़ाई में ध्यान नहीं देता। इसके बाद सुमन हरीश को रोज पढ़ाने लगे। और हरीश को अपनी भाभी का पढ़ाया हुआ अच्छे से आने लगा। इसके कुछ दिनों के बाद हरीश के दोबारा एग्जाम हुए, अबकी बार हरीश अच्छे नंबर से पास हुआ।

उसने यह बात अपनी मां को बताई। इस पर रमा ने अपनी बहू सुमन की बहुत तारीफ की। उसकी वजह से हरीश आज एग्जाम में पास हो गया। रमा ने इसके बाद अपनी बहू को बच्चों को ट्यूशन पढ़ाने की इजाजत दे दी।

तो दोस्तों अगर आपको यह कहानी Story in Hindi अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ और परिवार के साथ शेयर कीजिए। और नीचे कमेंट में बताया कि और किस तरह का कहानी आपको पसंद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here